समाज के सभी वर्गो के साथ हमेशा जुड़े रहे राम लखन बाबू।

0
262

ONE NEWS LIVE NETWORK BIHAR

शहर के बीचों बीच लोहिया आश्रम स्थित जदयू कार्यालय में बिहार सरकार के पूर्व मंत्री स्व राम लखन महतो की जयंती मनाई गयी। व उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित किया गया ।पार्टी जिलाधयक्ष अश्वमेघ देवी , प्रो दुर्गेश राय, तकी अख़्तर,कौशल सिंह कुशवाहा,महेश ठाकुर विश्वकर्मा,राजेश्वर महतो , वरुण साह,कृष्ण देव पासवान,रामदेव सिंह कुशवाहा, डॉक्टर त्रिभुवन राय,स्व महतो की धर्मपत्नी कुंती सिन्हा,अर्चना कुमारी, प्रियंका कुमारी, तांती,सहित अन्य लोगो ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

दलसिंहसराय स्थित रामपुर जलालपुर स्थित आरएल महतो बीएड कॉलेज परिसर में बिहार सरकार के पूर्व मंत्री स्व.राम लखन महतो की 74वीं जयंती समारोहपूर्वक मनाई गई। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन एवं उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित कर किया गया । पूर्व मंत्री सादगी, सत्यनिष्ठा, सरल एवं सादे स्वभाव के नेता थे । वे न केवल विनम्र तथा योग्य थे। बल्कि अपूर्व सूझ – बूझ एवं संगठन शक्ति से संपन्न व्यक्ति थे । वे गरीब एवं वंचित लोगों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए सदा प्रयत्नशील रहे । उनका अस्तित्व और व्यक्तित्व दोनों महान हैं एवं चरित्र अनुकरणीय हैं । इस अवसर पर अतिथियों के द्वारा पौधारोपण किया गया । साथ ही उनकी जयंती के अवसर पर उजियारपुर विधानसभा के सभी पंचायतों में लगभग 75 फलदार सफेद मालदह आम के पौधे लगाए गए । यह जयंती समारोह युवा जदयू नेता एवं महाविद्यालय के निदेशक प्रशांत कुमार पंकज के नेतृत्व में मनाया गया । इनकी जयंती बिहार के कई जिलों में मनाई जा रही है।विदेशों में विशेष रुप से इंग्लैंड स्कॉटलैंड, नीदरलैंड, कनाडा, अमेरिका, दुबई, जर्मनी, नेपाल एवं सिगापुर में भी मनाया गया । लैटिन अमेरिका देश के कोस्टारिका के सुपरस्टार बिहारी मूल के प्रभाकर शरण ने बताया कि चाचाजी की जयंती के अवसर पर कैंसर की दवा बनाने वाली ”ग्रेभिओला” वृक्ष लगाए गए । लंदन से कल्पना कुंदन, नीदरलैंड से निक्की, लांस एंजिल से शिवानी, कनाडा से तिलक नाग, जर्मनी से हीरो प्रशांत प्रभाकर आदि भी शामिल हुए । समारोह में सभी लोगों को जूम एप के माध्यम से जोड़ा गया तथा एक साथ एक ही समय केक काटे गए । इस जयंती समारोह के अवसर पर महाविद्यालय परिसर में महाविद्यालय परिवार के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया एवं गरीब तथा अनाथ बच्चों को स्कूल बैग के साथ-साथ किताबें प्रदान की गई।