कोविड मृतकों को मोमबत्ती श्रद्धांजलि देकर शोक मनाया।

0
101
  • कोविड मृतकों को मोमबत्ती श्रद्धांजलि देकर शोक मनाया
  • मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रूपये मुआवजा देने की गारंटी करे सरकार- सुरेन्द्र
  • कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाव की तैयारी तेज करो- सुनील
  • उप स्वास्थ केंद्र से लेकर जिला अस्पताल तक को सुदृढ़ करो- माले
    समस्तीपुर।सरकारी कुव्यवस्था के कारण असमय कोरोना से हुई लाखों मौत एवं इस दौरान परिजनों द्वारा मृतकों का अंतिम दर्शन से लेकर सम्मानजनक तरीके से अंतिम संस्कार तक नहीं कर पाने की मलाल के बीच मृतकों की याद में शोक- श्रद्धांजलि देने हेतु आइसा, इनौस, ऐपवा एवं भाकपा माले द्वारा रविवार को शहर के स्टेडियम गोलंबर पर श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया.
    कार्यक्रम की शुरूआत में बड़ी संख्या में शहर के गणमान्य लोगों ने कोरोना मृतकों को दो मिनट का मौन श्रद्धांजलि दिया. तत्पश्चात अपने- अपने हाथों में मोमबत्ती जलाकर नम आंखों से संयुक्त रूप से श्रद्धांजलि दिया गया.
    मौके पर माले जिला स्थाई समिति सदस्य सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि कोरोना से लाखों लोगों की मौत नहीं बल्कि डब्ल्यू० एच० ओ० के चेतावनी के बाबजूद सरकारी कुव्यवस्था मसलन आक्सीजन, वेंटिलेटर, सीटी स्कैन, आक्सीमिटर, चिकित्सक, नर्स, टेक्निशियन, कर्मी, ऐंबुलेंस, दवा आदि की कमी के कारण मौत हुई है. यह सरकारी नाकामी है. इतना भयावह स्थिति की लोगों ने परिकल्पना भी नहीं की थी. मृतक को सम्मानजनक संस्कार तक नहीं किया जा सका. लोग अपनों के अंतिम दर्शन तक नहीं कर सके. कहीं एक ऐंबुलेंस में 5-7 शव को़चकर शमशान पहुंचाये जा रहे थे तो कहीं शवों को नहीं, ताब, पोखरे, श्मशान में फेंके जा रहे थे. शव को कफन तक नसीब नहीं हुआ. यहाँ तक की गंगा में शवों की ढ़ेर लगा दिया गया. एक चित्ता पर कई शवों को एक साथ जलाया जा रहा था. कहीं शवों को चील, कौए, कुत्ते आदि नोंचते दिख रहे थे और सबका साथ- सबका विकास वाली मोदी सरकार नींद से सो रही थी.
    अब इससे भी भयंकर तीसरे फेज की चेतावनी दी जा रही है. ऐसे में उप स्वास्थ्य केंद्र से लेकर जिला अस्पताल तक में हरेक प्रकार की दवा, ऐंबुलेंस, आक्सीजन, वेंटीलेटर, सीटी स्कैन, चिकित्सक, टेक्निशियन, नर्स आदि की कमी को पूरा करने की मांग को लेकर जन आंदोलन के माध्यम से साई मोदी सरकार को जगाये रखने की जिम्मेवारी हमें लेना है ताकि आने वाले दिनों में हमें अपनों को न खोना पड़ें. कार्यक्रम में ऐपवा जिलाध्यक्ष बंदना सिंह, आइसा जिला अध्यक्ष लोकेश राज, सोनू कुशवंशी, प्रिति कुमारी, द्रख्शा जबीं, मनीषा कुमारी, आशिष देव, राजू कुमार झा, धीरज कुमार, इंसाफ मंच के मो० नौशाद आलम, मो० सगीर, गणेश कुमार शर्मा, मो० ईम्तेयाज आलम, अशोक कुमार राय, दीपक यादव, चेतना सामाजिक संस्था के डा० मिथिलेश कुमार समेत दर्जनों शहर के दर्जनों गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे.