क्वेस्ट अलायन्स एवं शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में वार्षिक आनंदशाला गोष्ठी का आयोजन

0
99

#क्वेस्ट अलायन्स ##शिक्षा विभाग# संयुक्त तत्वावधान#

http://Onenewslive.net/#क्वेस्ट अलायन्स ##शिक्षा विभाग# संयुक्त तत्वावधान#

ONE NEWS LIVE NETWORK TEAM DIGITAL

क्वेस्ट अलायन्स एवं शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में वार्षिक आनंदशाला गोष्ठी का आयोजन ऑनलाइन ज़ूम एप्प के माध्यम से किया गया। गोष्ठी के दौरान विद्यालयों में बेहतर अभ्यास के लिए तय किये गए विभिन्न कोटियों में जिले के चुनिंदा विद्यालयों एवं संकुल समन्वयकों को आनंदशाला शिक्षारत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर शिक्षा में तकनीक के उपयोग के लिये उत्क्रमित मध्य विद्यालय लगुनियाँ सूर्यकण्ठ,समस्तीपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय दुधैल, हसनपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय रुपौली टोले बनघारा, सरायरंजन, बुनियादी विद्यालय जनार्दनपुर, उत्क्रमित उच्च विद्यालय कांचा, कन्या मध्य विद्यालय मऊ एवं उत्क्रमित मध्य विद्यालय बंदा कन्या, लैंगिक समानता और समान अवसर को बढ़ावा देने के लिए उत्क्रमित मध्य विद्यालय मिल्की रमौली, कल्याणपुर, मध्य विद्यालय सिंघिया खुर्द,समस्तीपुर छात्र सहभागिता एवं नेतृत्व के लिए उत्क्रमित मध्य विद्यालय बंगरा, ताजपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय इस्माइलपुर लगुनियाँ, पटोरी, उत्क्रमित मध्य विद्यालय कुबौलीराम पूसा, मध्य विद्यालय सीही, हसनपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय रामपुर रजवा, हसनपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय बेलसंडी डीह, विभूतिपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय बहादुरपुर ठनका, शिवाजीनगर, सामुदायिक सहभागिता के लिए उत्क्रमित मध्य विद्यालय बम्बइया डीह, दलसिंहसराय, मध्य विद्यालय कलौंजर, कल्याणपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय दरबा उत्तर टोल पटोरी एवं मध्य विद्यालय लालपुर, रोसड़ा जबकि संकुल समन्वयकों की कोटि में संकुल संसाधन केंद्र उत्क्रमित मध्य विद्यालय उदापट्टी पूरब टोल सरायरंजन, मध्य विद्यालय सिरोपट्टी खानपुर, मध्य विद्यालय गजपति, हसनपुर, उ0 म0 विद्यालय सोनुपुर रोसड़ा एवं मध्य विद्यालय मऊ, विद्यापतिनगर को शिक्षा रत्न सम्मान से नवाजा गया। पुरस्कारों की घोषणा बिहार शिक्षा परियोजना के एपीओ सुरेश राम ने की। मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए निदेशक, शोध एवं प्रशिक्षण विनोदानंद झा ने कहा कि सीखने का अर्थ व्यवहार परिवर्तन से है। शिक्षक एक माली की तरह हैं। आज विद्यालयों को आनंददायी बनाने के लिए हमें मारिया मांटेसरी एवं गिजुभाई बधेका के आदर्शों को विद्यालयों में लागू करना होगा।वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर आयोजित इस सभा को संबोधित करते हुए जिला शिक्षा पदाधिकारी मदन राय ने कोरोना काल में भी इतनी लगन और निरंतरता से कार्य के लिए सभी पुरस्कृत शिक्षकों एवं संकुल समन्वयकों को बधाई दी। क्वेस्ट अलायन्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आकाश सेठी ने कहा कि हम तकनीक के उपयोग से शिक्षा के उद्देश्यों हासिल करने के पक्षधर हैं। शिक्षक, विद्यार्थी, अभिभावक और समुदाय एक दूसरे से तकनीक के माध्यम से जुड़ सकते हैं। डीपीओ एसएसए शिवनाथ रजक ने सभी पुरस्कृत शिक्षकों को बधाई देते हुए कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में विद्यालयों का सुरक्षित संचालन शिक्षकों की महती जिम्मेवारी है, जिसका जिले के शिक्षक बेहतर निर्वहन कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने अगले वर्ष के शिक्षा रत्न पुरस्कार के लिए नामांकन आमंत्रण की घोषणा भी की । इस संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि विद्यालयों के द्वारा नामांकन जमा करने की प्रक्रिया बाल दिवस 2021 से शुरू होकर 31 जनवरी 2022 को खत्म होगी। बुक वार्म संस्था की नयन एवं सुजाता ने पुस्तकालय के महत्व को विस्तार से बताया। कार्यक्रम को आनंदशाला की इफ्फत एवं रुकसार के अलावे उत्क्रमित मध्य लगुनियाँ सूर्यकण्ठ के एच एम सौरभ कुमार एवं शिक्षिका प्रीति कुमारी ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन आनंदशाला के कार्यक्रम प्रबंधक दीपक शाही ने, तकनीकी सहयोग अंजू ने जबकि धन्यवाद ज्ञापन सुनील ने किया।