बिस्मिल्लाह खां लीडरशिप कॉन्फ़्रेन्स सह लीडरशिप अवॉर्ड

0
173

ONE NEWS LIVE NETWORK TEAM DIGITAL

“बिस्मिल्लाह खां लीडरशिप कॉन्फ़्रेन्स सह लीडरशिप अवॉर्ड एवं कोरोना वॉरियर्स सम्मान-2021” का हुआ आयोजन

• शहनाई सभी वादनों की गंगा हैः प्रो.नवल किशोर यादवhttp://Onenewslive.net/नवल किशोर यादव

पटनाः शहनाई नवाज भारतरत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां साहब की पुण्यतिथि (21 अगस्त) के अवसर पर ‘शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां ट्रस्ट’ के तत्वावधान में अंतरराष्ट्रीय “बिस्मिल्लाह खां लीडरशिप कॉन्फ़्रेन्स सह लीडरशिप अवॉर्ड एवं कोरोना वॉरियर्स सम्मान-2021” का आयोजन 21 अगस्त 2021 को पटना के कालीदास रंगालय में संपन्न हुआ। इस मौके पर देश के अलावे नेपाल और विभिन्न जगहों से आए लोगों को भी सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम में अतिथि के रुप में शामिल प्रो. नवल किशोर यादव, उपनेता सत्तारुढ़ दल, डॉ. रणबीर नंदन, पूर्व सदस्य बिहार विधान परिषद, स्वयं प्रकाश, संपादक, जी बिहार-झारखंड, डॉ. रत्ना पुरकायस्था, डॉ. सत्यजीत कुमार सिंह, श्री कुमार गौरव उर्फ गौरव सिन्हा युवा उद्यमी और युवा उद्यमी श्री संजीव श्रीवास्तव को आयोजक मंडल द्वारा शॉल भेंट कर सम्मानित किया गया। समारोह में शामिल अतिथियों ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस अवसर पर गणेश वंदना एवं सरस्वती वंदना अक्षिता सवर्ण एवं आरव कुमार ने प्रस्तुत कर कार्यक्रम में शामिल लोगों को मंत्र मुग्ध कर दिया, जबकि शैलेंद्र राजू ने माउथ ऑर्गन पर राष्ट्रगान की धून बजाकर आकर्षण का केंद्र बन गए, तो निशा पराशर ने कजरी प्रस्तुत किया।

विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शख्सियतों चांद बाबू इराकी (नेपाल), शालिनी श्रीवास्तव (मॉस्को), समीर सिंह सिंह (विधान पार्षद), श्री कृष्ण प्रसाद सिंह (पूर्व विधायक), वसीम मंजर (दिल्ली), डॉ.सत्यजीत कुमार सिंह (निदेशक रुबन अस्पताल), आलोक अग्रवाल, डॉ.एन.पी.नारायण (एन.एम.सी.एच), डॉ. प्रवीण, डॉ. ए.के.राय, अमित शाखेर, अभिजित बासु, काव्या मनोहर, तृप्ति गुप्ता, हिमानी मिश्रा, स्तुति भूषण, सुमन अग्रवाल, उदय यादव अभिजित बासु (डुमरांव), राजू ठाकुर (बक्सर) सहित कई पत्रकारों, समाजसेवियों को सम्मानित किया गया। शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां ट्रस्ट, अमरेश एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसायटी एवं क्रेजी इवेंट के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित “बिस्मिल्लाह खां लीडरशिप कॉन्फ़्रेन्स सह लीडरशिप अवॉर्ड एवं कोरोना वॉरियर्स सम्मान-2021” से नवाजा गया।

समारोह को संबोधित करते हुए प्रो.नवल किशोर यादव ने इस कार्यक्रम के लिए आयोजक मंडल को बधाई देते हुए कहा कि शहनाई सभी वादनों की गंगा है। उस्ताद ने अपने जीवन में जो किया आज उसकी मिठास पूरी दुनिया में उन्हें स्थापित कर दिया। मुरली मनोहर श्रीवास्तव उस्ताद की स्मृति को लगातार सहेजने में लगे हुए हैं।
पूर्व विधान परिषद सदस्य डॉ.रणबीर नंदन ने इस मौके पर कहा कि बिस्मिल्लाह खां साहब का व्यक्ति ही उनका कृतित्व बन गया। उन्होंने अपने जीवनकाल में जो किया आज उनकी स्मृति अमरत्व की श्रेणी में शुमार कर दिया। डॉ. रत्ना पुरकायस्था ने कहा कि उस्ताद के द्वारा बजायी गई स्वर लहरियां हर घर में सुनी जाती हैं। इस आयोजन के लिए आयोजक मंडल बधाई के पात्र हैं।
शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां ट्रस्ट के अध्यक्ष मुरली मनोहर श्रीवास्तव ने समारोह में शामिल अतिथियों एवं आए सम्मानित लोगों के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि इस आयोजन को सफल बनाने में कई लोगों ने अपनी महत्ती भूमिका निभायी है उनको मैं हृदय से धन्यवाद देता हूं।
समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि अमरेश एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसाइटी के सचिव रमेश पाण्डेय ने बिस्मिल्लाह खां लीडरशिप कॉन्फ़्रेन्स सह लीडरशिप अवॉर्ड एवं कोरोना वॉरियर्स सम्मान समारोह के सफल आयोजन के लिए शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां ट्रस्ट के अध्यक्ष मुरली मनोहर श्रीवास्तव को बधाई दी। उन्होंने कहा कि मुरली मनोहर श्रीवास्तव ने उस्ताद विस्मिल्लाह खां के जीवन पर आधारित पुस्तक का लेखन कर उस्ताद के व्यक्तित्व-कृतित्व से देश और दुनिया को परिचित कराया है। मैं 15 वीं पुण्यतिथि के अवसर पर भारत रत्न बिस्मिल्लाह खां को नमन करता हूँ।
समाजसेवी सह क्रेजी इवेंट की प्रमुख सोनिया सिंह ने बताया कि बिस्मिल्लाह खां साहब किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। गंगा-जमुनी तहजीब के संवाहक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की पुण्यतिथि के अवसर पर इस कार्यक्रम को आयोजित करने का मूल उद्देश्य है आपके द्वारा समाज के प्रति समर्पित सकारात्मक कार्यों को प्रोत्साहन देना है। बसंत सिन्हा ने कहा कि समाज में उत्कृष्ट कार्य कर अपने राज्य, देश व दुनिया में नाम रौशन करने वाले युवाओं को सम्मानित कर उनकी प्रतिभा को प्रतिष्ठित करना है। जबकि ट्रस्टी रंजीत कुमार यादव ने बताया कि उस्ताद बिस्मिल्लाह कौमी एकता के प्रतीक थे जिनकी शहनाई की गुंज शुभ कार्यों में हर धर्म, समुदाय के यहां गुंजती है। वहीं सिद्धार्थ मिश्रा ने कहा कि इस आय़ोजन की मूल वजह प्रतिभाओं का सम्मान है, साथ ही भारतीय सभ्यता-संस्कृति का अलख जगाना है।