इको टूरिज़्म केंद्र बनने के लिए बिहार प्रतिबद्ध

0
46

ज्योत्सना सूरी ने कहा, नेशनल टूरिज्म इंवेस्टर्स मीट इंडस्ट्री को नए आकार में ढाल सकती है। बिहार में असीमित साधन व संभावना हैं

फिक्की का उद्देश्य छठे एनटीआईएम के साथ भारतीय पर्यटन उद्योग में क्रांति लाना है

नेशनल टूरिजम इंवेस्टर्स मीट के छठे संस्करण में पर्यटन मंत्रालय, राज्य सरकार और वित्तीय संस्थाओं के प्रतिनिधि निवेशक और कारोबारी समुदाय से जुड़े अलग-अलग हितधारकों के साथ एक ही प्लेटफॉर्म पर एकत्रित हुए।

दिल्ली, 26सितंबर 2021 :

फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) छठा नेशनल टूरिज्म इनवेस्टर्स मीट (एनटीआईएम) 23 और 24 सितंबर को आयोजित किया गया। इस मीट में बिहार को ‘थीम राज्य’ के तौर पर चयनित किया गया था। आयोजन का उद्देश्य कोविड के बाद के युग में बिहार के पर्यटन उद्योग को फिर से लॉन्च करने के लिए टूरिज्म में निवेश को प्रोत्साहित करना है।

इस दो दिवसीय इवेंट के उद्घाटन समारोह में बिहार सरकार के माननीय पर्यटन मंत्री श्री नारायण प्रसाद, भारत सरकार में पर्यटन विभाग के महानिदेशक श्री जी. कमलावर्धन राव और संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन, तकनीकी सहयोग और सिल्क रोड डिवेलपमेंट (यूएनटीडब्ल्यूओ) श्री सुमन बिल्ला मौजूद थे।

बिहार के माननीय पर्यटन मंत्री श्री नारायण प्रसाद ने अपने संबोधन में कहा, “बिहार में यात्रा और पर्यटन में अपार अवसर हैं। हमने बिहार में रामायण सर्किट, बुद्ध सर्किट, गांधी सर्किट, सूफी सर्किट और कई और सर्किट बनाए हैं। हाल ही में माननीय ‘बिहार के मुख्यमंत्री ने बांका में मंदार हिल्स में रोपवे का उद्घाटन किया। पहले इसे 1 घंटे में कवर किया गया था जो अब 3 मिनट में कवर किया जा सकेगा। ये क्रांतिकारी बदलाव है। बिहार में फ़्रेश वाटर की कई झीलें हैं जिन्हें रामसर कन्वेंशन के तहत दर्जा मिला है। राजगीर में एक नया रोपवे भी बनाया गया है। राजगीर में चिड़ियाघर सफारी, नेचर सफारी भी है , और एक सुंदर कांच का पुल (ग्लास ब्रिज) बनाया गया है जो लोगों को आकर्षित करता है। बुद्ध की भूमि बोधगया हम सभी के लिए एक पवित्र स्थान है। वाल्मीकि टाइगर रिजर्व बिहार का एक दर्शनीय स्थल है। पर्यटन के अलावा आज बिहार ‘हर थाली में बिहारी व्यंजन’ अभियान के तहत भारत की सभी प्लेटों में राजकीय व्यंजनों को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहा है। मैं निवेशकों से अनुरोध करता हूं कि बिहार में आकर निवेश करें। महावीर, सीता और बुद्ध की भूमि आप सभी का स्वागत करती है।”

श्रीमती उषा पाधेय, संयुक्त सचिव, नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार ने कहा, ” दरभंगा एयरपोर्ट बनने के बाद बिहार में पर्यटन क्षेत्र में निवेश की संभावना बढ़ी है। दरभंगा में एयरपोर्ट बनने से रोज़गार के अवसर भी बढ़े हैं और साथ ही उत्तर बिहार दर्शनीय स्थल भी अब आसानी से घूमे जा सकते हैं।”

फिक्की की ट्रैवल, टूरिज्म और हॉस्पटिलिटी कमिटी के अध्यक्ष और ललित सूरी हॉस्पटिलिटी ग्रुप की सीएमडी डॉ. ज्योत्सना सूरी ने कहा, “बिहार में ट्रेवल और टूरिस्म को लेकर कई सम्भावना हैं। गौतम बुद्ध की धरती बोध गया का दुनिया भर में नाम है जिसे और सुदृढ़ तरीक़े से उभरने की ज़रूरत है। राजगीर, नालंदा व गया में चेन ऑफ होटल्स की आवश्यकता है। लुंबिनी में गौतम बुद्ध के जन्मस्थान की तुलना में बिहार की भूमि का मूल्य अधिक है। बोधगया का अधिक महत्व है इसलिए निवेश के साथ आगे बढ़ाने की जरूरत है। नालंदा विश्वविद्यालय ज्ञान का भंडार हुआ करता था। यह एक वास्तुशिल्प चमत्कार भी था। आने वाले समय में आगे की पीढ़ियों को इससे रूबरू कराने को आवश्यकता है।”

संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनटीडब्ल्यूओ) के निदेशक, श्री सुमन बिल्ला, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिनेवा से बैठक में शामिल हुए, ने कहा, “यूएन महामारी के प्रकोप के कारण हुए नुकसान को देखते हुए देशों में यात्रा और पर्यटन में निवेश के विचार का प्रचार कर रहा है। अब वहाँ एक सकारात्मक प्रवृत्ति है जिसे हम देख रहे हैं। निवेश वापस आ रहा है और यह एक बहुत ही सकारात्मक संकेत है।”