प्रवर्तन निदेशालय ने की रेलवे के इंजीनियर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई

0
44

ONE NEWS NETWORK BIHAR

प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने रेलवे के इंजीनियर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. पूर्वोतर रेल के जमालपुर वर्कशॉप (Eastern Railway’s Jamalpur workshop) के तत्कालीन सीनियर सेक्शन इंजीनियर चंदेश्वर प्रसाद यादव (Chandeshwar Prasad Yadav, Senior Section Engineer) की करोड़ों की संपत्ति जब्त कर ली गई है.

आय से अधिक संपत्ति मामले में पहले से घिरे इंजीनियर चंदेश्वर प्रसाद यादव, उनकी पत्नी उर्मिला देवी और बेटों भारत भूषण और शशि भूषण के नाम पर अर्जित 3 करोड़ 44 लाख 19 हजार 298 रुपए की चल-अचल संपत्ति इसमें शामिल है. ईडी द्वारा उन्हें पहले ही मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. फिलहाल वह जेल में हैं.

वेतन सिर्फ 38 लाख और बैंक में जमा 2.37 करोड़

ईडी (Enforcement Directorate) के मुताबिक चंदेश्वर प्रसाद यादव वर्ष 2013 से 2017 तक जमालपुर स्थित रेल कारखाना में सीनियर सेक्शन इंजीनियर (रद्द मालगाड़ी के डिब्बे) के पद पर तैनात थे. इस दौरान उन्होंने अथाह संपत्ति अर्जित की. ये संपत्ति खुद, पत्नी उर्मिला देवी, बेटा भरत भूषण और शशि भूषण के नाम पर है.

ईडी के मुताबिक, उनके द्वारा अर्जित संपत्ति उनकी आय के ज्ञात स्रोतों से 3 करोड़ रुपए से ज्यादा की है. आय से अधिक संपत्ति को लेकर सीबीआई ने उनके खिलाफ कार्रवाई की थी. इसी के बाद ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की. जांच के दौरान पाया गया कि साल 2013 से 2017 के बीच वेतन से इन्हें करीब 38 लाख रुपए मिले. पर इसी दौरान उन्होंने 2,37,96,990 अपने और परिजनों के नाम पर विभिन्न बैंक खातों में जमा किए.

बेच दी रेल की संपत्ति

ईडी की पूछताछ में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए. सीनियर सेक्शन इंजीनियर चंदेश्वर प्रसाद यादव ने तैनाती के दौरान मालगाड़ी के खराब डिब्बों और अन्य कलपुर्जों की कीमत कम दिखाकर ठेकेदार को फायदा पहुंचाते रहे. ईडी के मुताबिक पटना के महारानी स्टील्स के प्रोपराइटर देवेश कुमार के साथ मिलकर उन्होंने रेलवे को करोड़ों की चपत लगाई. इसके एवज में उन्हें देवेश की तरफ से मोटी रकम दी गई. इन पैसों से उन्होंने कई जमीन खरीदी. साथ ही रकम को फिक्स डिपोजिट, बीमा आदि में लगा दिया.

संपत्तियों को ईडी ने किया जब्त

ईडी के मुताबिक सीनियर इंजीनियर की पांच अचल संपत्ति को जब्त किया गया जिसमें गर्दनीबाग स्थित मकान समेत महनार, दलसिंहसराय, हाजीपुर में खरीदे गए प्लॉट भी शामिल हैं. ये संपत्तियां पत्नी के नाम पर खरीदी गई है. वहीं 35.85 लाख के 7 म्यूचुअल फंड, 7.97 लाख की 4 बीमा पॉलिसी, 1.64 करोड़ के 29 फिक्स डिपोजिट, विभिन्न बैंकों खातों में मौजूद 17,25,058 रुपए को भी जब्त किया गया है.