अर्चना पांडे बनी पहली महिला कैब ड्राइवर

0
58


पटना। सविता कुमारी।

। राजधानी की अर्चना पांडे पहली महिला का ड्राइवर बनी है। घरेलू हिंसा से तंग आकर अक्सर महिलाएं गलत कदम उठा लेती हैं लेकिन अनिसाबाद की रहने वाली 34 वर्षीय अर्चना पांडे 4 बच्चों की परवरिश करने के लिए कैब कैप चलाना शुरु किया है। अर्चना पांडे बताती हैं कि वह शुरू से अच्छी चालक चालक रही है। लेकिन शादी के बाद उसका यह हुनर कहीं गुम हो गया था। परिवारिक जिम्मेदारियों और बच्चों में ही उनकी दुनिया थी। कुछ साल पहले ससुराल वालों की प्रताड़ना की बरी कि उसने अलग होकर अपनी पहचान बनाने की राह चुनी। वह मसाले का बिजनेस शुरू किया लेकिन अनुभव की कमी के कारण बिजनेस चल नहीं सका इसके बाद कई कंपनियों में काम किया उन पैसों पैसों से बच्चों की परवरिश नहीं हो पा रही थी इसलिए उसने अपने हुनर को ही कैरियर के रूप में अपनाना सही समझा। अर्चना पांडे ने बैंक से लोन लेकर कार खरीदी और खुद ड्राइविंग करने लगी शुरू में जान पहचान के लोगों के लिए गाड़ी चलाती थी। धीरे-धीरे लोगों से पहचान बनी तो ट्रैवल एजेंसी के लिए कैप चलाना शुरु कर दिया है। वह कैब से बिहार के सभी जिलों में जा चुकी है। महिलाएं इनके साथ जाना अधिक सुरक्षित समझती हैं।